Himachal Pradesh History: From Vedic age to Gupta Period

Himachal Pradesh History From Vedic age to Gupta Period

Himachal Pradesh History: From Vedic age to Gupta Period

History Of Himachal Pradesh

The history of Himachal Pradesh dates back to the time when human civilization began. It has a rich and varied history which can be divided into several distinct eras. The state was the prominent trade route for numerous travelers due to the presence of many passes in mountains. Large parts of the northern regions of the state were under Tibet during the tenth century. This has made the Buddhist culture develop in the state, which is still found in areas like Lahaul, Mcleodganj, and Spiti. The other areas in the southern region were dominated by Ranas, Thakurs, and Raja clans. This made the state be divided into smaller regions under different rulers. The divisions resulted in different regions like Chamba, Kangra, and Kullu.

However, in the early 19th century, the state was conquered by Sikh kings after a treaty was signed with the British rulers. The state is inhabited by several Aryan tribes to date; the best example is the Kinnauris of eastern Himachal who follow mixed traditions of both Buddhism and Hinduism.

Pre-Independence History Of Himachal Pradesh

PreHistory Of Himachal Pradesh

Archaeological evidence has brought to light the presence of primitive men in the foothills of Himachal Pradesh. They are believed to have inhabited regions of Bangana valley of Kangra, Markanda valley of Sirmour, and Sirsa valley of Nalagarh. The Indus valley civilization is believed to have flourished in the valley during the period of 2250 and 1750 BC and Aryans used to live in these hilly regions.

About 2 million years ago man lived in the foothills of Himachal Pradesh, viz in the Bangana valley of Kangra, Sirsa valley of Nalagarh, and Markanda valley of Sirmour. The foothills of the state were inhabited by people from the Indus valley civilization which flourished between 2250 and 1750 B.C. People of the Indus valley civilization pushed the original inhabitants of Ganga plains who were known as Kolorian people towards the north. They moved to the hills of Himachal Pradesh where they could live peacefully and preserve their way of life.

In the Vedas, they have been referred to as Dasas, Dasyus, and Nishadas while in later works they have been called Kinnars, Nagas, and Yakshas. The Kols or Mundas are believed to be the original migrants to the hills of present-day Himachal. The second phase of migrants came in the form of Mongoloid people known as Bhotas and Kiratas. Later on, came the third and most important wave of migrants in the form of the Aryans who left their Central Asian home. These laid the base of the history and culture of Himachal Pradesh.

Medieval History Of Himachal Pradesh

Shankar Verma was the ruler of the Kashmir region during the year 883 AD. He was interested in the Himachal region and started exercising control over the state. The Hill region was also invaded by the Muslim ruler Mahmud Ghazni in the year 1009 AD. He was responsible for creating havoc and looting the wealth of almost all north Indian temples. Further in the year 1043 AD, the region came under Rajput rulers. Sansar Chand was the most prominent Rajput ruler who ruled over the territory.

Rajputs under the rule of Katoch Maharaja Sansar Chand-II annexed vast regions of the state in 1773 AD. Rajputs ruled the region peacefully until they were overthrown by Maharaja Ranjit Singh in the year 1804.

The small regions of the state enjoyed Independence and progressed before the invasion of Muslim kings. The Hilly region witnessed the worst devastation under the Muslim invader's regime; they did not pay any attention to the progress of the region. They were only interested in the accumulation of wealth and hence looted all the prominent temples. Mahmud Ghaznavi conquered the entire Kangra region in the 10th century. The feat of Mahmud Ghaznavi was followed by Timur and Sikander Lodi who also captured several forts and regions under their power.

British Rule in the History Of Himachal Pradesh

The British rule commenced in the state after the Anglo-Gorkha war. The Gorkha’s were outpowered by the British and they established their supremacy in the state after the Anglo-Gorkha war along with the provinces of Satluj. Thus British started annexing the area one by one and emerged as dominant powers in the hill state. The early 19th century witnessed the annexing of Shimla by the British. However, Himachal Pradesh became a centrally administered territory after India’s Independence in the year 1948 by the integration of 31 hill provinces.

The first war of Indian Independence popularly called the revolt of 1857 was the result of political unrest and grievance against British rule which involved social, religious, and economical reasons. However, the freedom movement was not very active in the hilly region unlike other parts of the country. They displayed their inactiveness when the first war of independence broke out, similar was the attitude of their rulers. However, Bushahr was the only ruler who was an exception and was hostile to the British administration. It is believed that some people even offered to help hand for the British during the revolt period. Some of the rulers who helped the British included rulers from Bilaspur, Chamba, Dhami, and Bhagal.

The hilly region of Himachal was annexed to British territory after the queen made a declaration in the year 1858. However, the British rule did not hamper the progress of the state, some of the districts like Mandi, Bilaspur, and Chamba made excellent progress during British rule. The British rule got excellent support from the Hill districts during the First World War. The people of the state remained loyal and extended all possible help to the British administration both in the form of men and goods. Some of the places like Bilaspur, Chamba, Nurpur, Mandi, Kangra, Siba, and Suket were of great aid to the British rule.

The Ancient Period in the State Till the Commencement of Harsha’s Kingdom

The great epic of Mahabharata has a reference to Himachal Pradesh. As per the epic, the place where the present-day Himachal stands were divided into small regions called Janpadas. The Janpadas were believed to be an independent state and cultural unit in itself.

Some of the references about the state during ancient times:

Audumbras: The Audumbras is believed to be the most ancient tribes that lived in lower regions of the state. Their main areas of habitat were along the hills between Pathankot and Jwalamukhi. They are believed to have formed a separate state during the 2nd century B.C.

Trigarta:  The Trigarta region is believed to have remained near the foothills of the three river drains, Ravi, Sutlej, and Beas. The historians believe that it was an independent region.

Kultura:  The region of Kuluta is believed to have remained in the upper Beas valley also known as Kullu valley. The capital of Kuluta was Naggar.

Kulindas: Kulindas region located at the basin was formed by three rivers Yamuna, Beas, and Satluj. The region had an extensive administration which was well developed considering the ancient time.

Gupta Empire: Chandragupta Maurya displayed enormous valor and suppressed the isolated rulers’ of the hill state. He did not rule the state directly, he appointed his caretakers to look after the state. However, it was during the regime of Ashoka the Great the territory of his kingdom extended to the Himalayan region. After Ashoka embraced Buddhism he built several stupas in the Hill state. The stupa built by him in Kullu valley is very famous.

Harsha: The time between the collapse of the Gupta Empire and the rise of Harshavardhan, the state again fell into the hands of petty chiefs like Ranas and Thakurs. The rise of Harsha in the 7th century made many of the surrender of the petty chief in front of his extreme valor. However, some rulers did not accept his supremacy.

The Rule of Rajput Kings

The Rajput kings took over the control of the Hill state after the death of King Harsha in 647 A.D. The Rajput had quarreled among them and brought their own destruction, the few who were left behind and defeated migrated to the hills along with their supporters. They divided the regions among themselves and started ruling the areas. The main region during this period was Kunihar, Sirmour, Bushahar, Dhami, Keonthal, Nalagarh, Bilaspur, Baghal, Kutlehar, Mandi, and Suket, etc.

Mughal period

The Mughal rulers invaded the hill state after the devastation carried out by users like Sikandar Lodhi, Timur, and Muhammad Ghaznavi. However, the Mughal rule started disintegrating and this period was well utilized by kings of the hill to exhibit their supremacy. The Katoch kings who belonged to the Kangra region took full advantage of the lean period and Kangra gained independence during the regime of Maharaja Sansar Chand. He ruled the hill region for approximately 50 years. He was considered the best administrator and during his regime, there was all-around progress in the region. He took possession of Kangra Fort and started annexing nearby kingdoms. He had direct and indirect control of numerous regions like Bilaspur, Mandi, Chamba, Guler, Suket, Datarpur, Siwan, and Jaswant.

The Two Main Wars Which Affected the State: The Anglo-Sikh and The Anglo-Gorkha War

In the year 1768, the martial tribe Gorkhas rose to control in Nepal. Effective planning and consolidation of military power helped them to enlarge their territory. They annexed various regions and finally conquered Shimla and Sirmour regions in the Hill state. Under the effective management of Amar Singh Thapa, the Gorkhas aimed at targeting Kangra. They also succeeded in defeating Sansar Chand, who was the ruler of Kangra, after a fierce battle in 1806 by taking help from local hill chiefs. But Gorkhas did not succeed in conquering Kangra fort. The fort came under the control of Maharaja Ranjeet Singh in 1809. This defeat made the Gorkhas move towards the south. Finally, the Gorkhas came into direct battle with the British which is termed as Anglo-Gorkha war. The Gorkhas could not stand on the battlefield against the British. The Gorkhas were driven out of the Hill state to the east of Satluj. Thus it commenced the supremacy of the British in the hill state.

The completion of the Anglo-Gorkha war resulted in tension along the boundary of the British field and the Punjab region. Sikhs and the British did not want to indulge in a direct quarrel. However, following the demise of Maharaja Ranjit Singh, the strong Khalsa (Sikh) army fought numerous battles against the British. In the year 1845, the Sikhs entered the British regions of the Hill state by moving across the Satluj River. The monarchs of the Hills who had enmities with the Sikh rulers joined hands with the British to take revenge against Sikhs. Many rulers served the British secretly. However, after the completion of the Anglo-Sikh war, the territories vacated by Sikhs were not restored to the original owners of the region. The British kept them under their own rule.

First War of Indian Independence 1857

The first war of Indian Independence popularly called the Revolt of 1857 was the result of political unrest and grievance in contradiction of British rule which involved social, religious, and economical reasons. However, the freedom movement was not very active in the hill region unlike other portions of the country. They displayed their inactiveness when the first war of independence broke out; similar was the attitude of their rulers. However, Bushahr was the only ruler who was an exception and was hostile to the British administration. It is believed that some people even offered to help hand for the British during the rebellion period. Some of the rulers who helped the British included the rulers from Bilaspur, Chamba, Dhami, and Bhagal.

The Rule from 1858 to 1914 in the Hill State

The hill region of Himachal was annexed to British territory after the queen made a declaration in the year 1858. However, the British rule did not hamper the progress of the state, some of the districts like Mandi, Bilaspur, and Chamba made excellent progress throughout the British rule. British rule got excellent support from the Hill districts during the 1st World War. People of the state remained trustworthy and extended all possible help to the British administration both in the form of manpower and goods. Some of the places like Bilaspur, Chamba, Nurpur, Mandi, Kangra, Siba, and Suket were of great aid to British rule.

Participation of Himachal Region in the Indian Freedom Struggle from 1914 to 1947

The people of the Himachal region participated actively in the Indian freedom fight. The high points of incidences in which the hill people participated are listed below:

Praja Mandal in the Himachal region instigated its first revolt in contradiction of British rule in districts which was directly controlled by the British.

The agitation also broke out against the Princes in many Princely states to bring about political and social reforms. These were not against the British. However, they can be considered as part of the ongoing freedom struggle.

One of the important incidences that occurred in the Himachal region is the Mandi scheme of 1914-15. This was organized by the Gadhar party. Several conferences were held at Suket and Mandi states in December 1914 as well as January 1915 by extremist leaders who decided to assassinate the Manager and Wazir of Mandi as well as Suket. The motto was to rob the government treasury, below the bridge on the Beas River to disturb British administration. However, the leaders could not succeed and the people involved in the conspiracy were held and condemned to long jail terms.

When the Quit India Movement commenced in the year 1942, its spark was felt in the hilly region with the Pajhota agitation in which people of a part of Sirmour state revolted against British rule.

Some of the prominent freedom fighters who hailed from the hill regions of Himachal Pradesh were Daulat Ram, Sada Ram chandal, Satya Dev, Purnanada, Prahari Gandiu Baba Khansi Ram, Shivnanda Ramaul, Padma Dev, Dr. Y.S Parmar.

Kangra was considered the active congress hub during the freedom struggle in the hill state.

Post Independence Period

The history of Himachal Pradesh post-Independence era is listed below in chronological order:

15th April 1948  – Establishment of Principal Commissioner’s province of Himachal Pradesh

26th January 1950 – Constitution of India comes into existence, India becomes Republic and H.P. becomes part C.

1st July 1954 – Bilaspur becomes part of Himachal Pradesh after its merger.

1st November 1956 – Himachal Pradesh declared a Union Territory.

1st November 1966 – The majority of the Hill regions including Kangra merged with Himachal Pradesh. However, its status remains that of a Union Territory.

18th December 1970 – The Act for the formation of Himachal Pradesh State passes by the Parliament.

25th January 1971 – Himachal Pradesh becomes the 18th state of the Indian Union.

Himachal Pradesh has come all the way long way since those times. It has certainly seen several full-grown governments. After India attained Independence in 1947, Himachal Pradesh was formed as a Chief Commissioner’s Province in Indian Union in 1948. The province was formed by several Hill districts situated around Shimla and some of the hilly regions of Punjab State. Then it was converted into a part C state on 26 January 1950, with the formation of the Indian constitution and emerging as a Sovereign, the Socialist Republic on 26th Jan 1950.  The region was further converted into a Union Territory on 1st November 1956. This was followed by bypassing of an Act for the formation of Himachal Pradesh as a state in Indian Union on 18th December 1970. Finally on 25 January 1971, it emerged as the 18th state in the Indian Union with Shimla as its capital.

 हिमाचल प्रदेश का इतिहास: वैदिक युग से गुप्त काल तक

हिमाचल प्रदेश का इतिहास

हिमाचल प्रदेश का इतिहास उस समय से है जब मानव सभ्यता शुरू हुई थी। इसका एक समृद्ध और विविध इतिहास है जिसे कई अलग-अलग युगों में विभाजित किया जा सकता है। पहाड़ों में कई दर्रों की उपस्थिति के कारण राज्य कई यात्रियों के लिए प्रमुख व्यापार मार्ग था। दसवीं शताब्दी के दौरान राज्य के उत्तरी क्षेत्रों का बड़ा हिस्सा तिब्बत के अधीन था। इससे राज्य में बौद्ध संस्कृति का विकास हुआ है, जो अभी भी लाहौल, मैकलोडगंज और स्पीति जैसे क्षेत्रों में पाई जाती है। दक्षिणी क्षेत्र के अन्य क्षेत्रों में राणा, ठाकुर और राजा कुलों का प्रभुत्व था। इसने राज्य को विभिन्न शासकों के अधीन छोटे क्षेत्रों में विभाजित कर दिया। विभाजन के परिणामस्वरूप चंबा, कांगड़ा और कुल्लू जैसे विभिन्न क्षेत्रों में।

हालाँकि, 19 वीं शताब्दी की शुरुआत में, ब्रिटिश शासकों के साथ एक संधि पर हस्ताक्षर किए जाने के बाद सिख राजाओं ने राज्य पर विजय प्राप्त कर ली थी। राज्य आज तक कई आर्य जनजातियों द्वारा बसा हुआ है; सबसे अच्छा उदाहरण पूर्वी हिमाचल के किन्नौरी हैं जो बौद्ध धर्म और हिंदू धर्म दोनों की मिश्रित परंपराओं का पालन करते हैं।

हिमाचल प्रदेश का स्वतंत्रता पूर्व इतिहास 

हिमाचल प्रदेश का प्रागितिहास

पुरातात्विक साक्ष्यों से हिमाचल प्रदेश की तलहटी में आदिम पुरुषों की उपस्थिति का पता चलता है। माना जाता है कि उनके पास कांगड़ा की बंगाना घाटी, सिरमौर की मारकंडा घाटी और नालागढ़ की सिरसा घाटी के बसे हुए क्षेत्र हैं। माना जाता है कि सिंधु घाटी सभ्यता 2250 और 1750 ईसा पूर्व की अवधि के दौरान घाटी में विकसित हुई थी और आर्य इन पहाड़ी क्षेत्रों में रहते थे।

लगभग 20 लाख वर्ष पहले मनुष्य हिमाचल प्रदेश की तलहटी में रहता था, जैसे कांगड़ा की बंगाना घाटी, नालागढ़ की सिरसा घाटी और सिरमौर की मारकंडा घाटी में। राज्य की तलहटी में सिंधु घाटी सभ्यता के लोग रहते थे जो 2250 और 1750 ई.पू. के बीच फली-फूली। सिंधु घाटी सभ्यता के लोगों ने गंगा के मैदानी इलाकों के मूल निवासियों को उत्तर की ओर धकेल दिया, जिन्हें कोलोरियन लोग कहा जाता था। वे हिमाचल प्रदेश की पहाड़ियों में चले गए जहां वे शांति से रह सकते थे और अपने जीवन के तरीके को संरक्षित कर सकते थे।

वेदों में, उन्हें दास, दस्यु और निषाद के रूप में संदर्भित किया गया है, जबकि बाद के कार्यों में उन्हें किन्नर, नागा और यक्ष कहा गया है। माना जाता है कि कोल या मुंडा वर्तमान हिमाचल की पहाड़ियों के मूल प्रवासी हैं। प्रवासियों का दूसरा चरण मंगोलोइड लोगों के रूप में आया, जिन्हें भोटा और किरात के नाम से जाना जाता है। बाद में, आर्यों के रूप में प्रवासियों की तीसरी और सबसे महत्वपूर्ण लहर आई, जिन्होंने अपना मध्य एशियाई घर छोड़ दिया। इन्होंने हिमाचल प्रदेश के इतिहास और संस्कृति की नींव रखी।

हिमाचल प्रदेश का मध्यकालीन इतिहास

शंकर वर्मा वर्ष 883 ई. के दौरान कश्मीर क्षेत्र के शासक थे। वह हिमाचल क्षेत्र में रुचि रखता था और राज्य पर नियंत्रण करना शुरू कर दिया था। मुस्लिम शासक महमूद गजनी ने भी वर्ष 1009 ईस्वी में पहाड़ी क्षेत्र पर आक्रमण किया था। वह लगभग सभी उत्तर भारतीय मंदिरों में तबाही मचाने और संपत्ति लूटने के लिए जिम्मेदार था। आगे वर्ष 1043 ईस्वी में, यह क्षेत्र राजपूत शासकों के अधीन आ गया। संसार चंद सबसे प्रमुख राजपूत शासक थे जिन्होंने इस क्षेत्र पर शासन किया था।

कटोच महाराजा संसार चंद-द्वितीय के शासन में राजपूतों ने 1773 ई. में राज्य के विशाल क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया। राजपूतों ने वर्ष 1804 में महाराजा रणजीत सिंह द्वारा उखाड़ फेंकने तक इस क्षेत्र पर शांतिपूर्वक शासन किया।

राज्य के छोटे क्षेत्रों ने स्वतंत्रता का आनंद लिया और मुस्लिम राजाओं के आक्रमण से पहले प्रगति की। मुस्लिम आक्रमणकारियों के शासन में पहाड़ी क्षेत्र में सबसे अधिक तबाही हुई; उन्होंने क्षेत्र की प्रगति पर कोई ध्यान नहीं दिया। वे केवल धन संचय में रुचि रखते थे और इसलिए सभी प्रमुख मंदिरों को लूट लिया। महमूद गजनवी ने १०वीं शताब्दी में पूरे कांगड़ा क्षेत्र पर विजय प्राप्त की। महमूद गजनवी के पराक्रम के बाद तैमूर और सिकंदर लोदी ने अपनी शक्ति के तहत कई किलों और क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया।

हिमाचल प्रदेश के इतिहास में ब्रिटिश शासन

एंग्लो-गोरखा युद्ध के बाद राज्य में ब्रिटिश शासन की शुरुआत हुई। गोरखाओं को अंग्रेजों ने मात दे दी और उन्होंने सतलुज प्रांतों के साथ-साथ एंग्लो-गोरखा युद्ध के बाद राज्य में अपना वर्चस्व स्थापित किया। इस प्रकार अंग्रेजों ने एक-एक करके इस क्षेत्र पर कब्जा करना शुरू कर दिया और पहाड़ी राज्य में प्रमुख शक्तियों के रूप में उभरे। 19वीं सदी की शुरुआत में अंग्रेजों द्वारा शिमला पर कब्जा कर लिया गया था। हालाँकि, वर्ष 1948 में 31 पहाड़ी प्रांतों के एकीकरण से भारत की स्वतंत्रता के बाद हिमाचल प्रदेश एक केंद्र प्रशासित क्षेत्र बन गया।

भारतीय स्वतंत्रता का पहला युद्ध जिसे लोकप्रिय रूप से 1857 का विद्रोह कहा जाता है, राजनीतिक अशांति और ब्रिटिश शासन के खिलाफ शिकायत का परिणाम था जिसमें सामाजिक, धार्मिक और आर्थिक कारण शामिल थे। हालांकि, देश के अन्य हिस्सों के विपरीत पहाड़ी क्षेत्र में स्वतंत्रता आंदोलन बहुत सक्रिय नहीं था। स्वतंत्रता का पहला युद्ध छिड़ने पर उन्होंने अपनी निष्क्रियता का परिचय दिया, उनके शासकों का रवैया भी ऐसा ही था। हालाँकि, बुशहर एकमात्र शासक था जो अपवाद था और ब्रिटिश प्रशासन के प्रति शत्रुतापूर्ण था। ऐसा माना जाता है कि कुछ लोगों ने विद्रोह के दौरान अंग्रेजों के लिए मदद की पेशकश भी की थी। अंग्रेजों की मदद करने वाले कुछ शासकों में बिलासपुर, चंबा, धामी और भागल के शासक शामिल थे।

वर्ष १८५८ में रानी द्वारा घोषणा किए जाने के बाद हिमाचल के पहाड़ी क्षेत्र को ब्रिटिश क्षेत्र में शामिल कर लिया गया था। हालांकि, ब्रिटिश शासन ने राज्य की प्रगति में बाधा नहीं डाली, मंडी, बिलासपुर और चंबा जैसे कुछ जिलों ने इस दौरान उत्कृष्ट प्रगति की। ब्रिटिश शासन। प्रथम विश्व युद्ध के दौरान पहाड़ी जिलों से ब्रिटिश शासन को उत्कृष्ट समर्थन मिला। राज्य के लोग वफादार बने रहे और उन्होंने पुरुषों और सामानों दोनों के रूप में ब्रिटिश प्रशासन को हर संभव मदद दी। बिलासपुर, चंबा, नूरपुर, मंडी, कांगड़ा, सिबा और सुकेत जैसे कुछ स्थान ब्रिटिश शासन के लिए बहुत मददगार थे।

हर्ष के राज्य के प्रारंभ तक राज्य में प्राचीन काल 

महाभारत के महान महाकाव्य में हिमाचल प्रदेश का संदर्भ है। महाकाव्य के अनुसार, वह स्थान जहाँ वर्तमान में हिमाचल खड़ा है, छोटे-छोटे क्षेत्रों में विभाजित है जिन्हें जनपद कहा जाता है। जनपद अपने आप में एक स्वतंत्र राज्य और सांस्कृतिक इकाई माने जाते थे।

प्राचीन काल के दौरान राज्य के बारे में कुछ संदर्भ:

  • ऑडुम्ब्रा: माना जाता है कि ऑडुम्ब्रा राज्य के निचले क्षेत्रों में रहने वाली सबसे प्राचीन जनजाति है। उनके निवास के मुख्य क्षेत्र पठानकोट और ज्वालामुखी के बीच की पहाड़ियों के साथ थे। ऐसा माना जाता है कि उन्होंने दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व के दौरान एक अलग राज्य का गठन किया था।
  • त्रिगर्त: माना जाता है कि त्रिगर्त क्षेत्र तीन नदी नालों, रावी, सतलुज और ब्यास की तलहटी के पास बना हुआ है। इतिहासकारों का मानना ​​है कि यह एक स्वतंत्र क्षेत्र था।
  • कुल्तुरा: माना जाता है कि कुलुता का क्षेत्र ऊपरी ब्यास घाटी में बना हुआ है जिसे कुल्लू घाटी भी कहा जाता है। कुलुता की राजधानी नग्गर थी।
  • कुलिन्दास: बेसिन में स्थित कुलिंदस क्षेत्र का निर्माण तीन नदियों यमुना, ब्यास और सतलुज द्वारा किया गया था। इस क्षेत्र का एक व्यापक प्रशासन था जो प्राचीन समय को देखते हुए अच्छी तरह से विकसित था।
  • गुप्त साम्राज्य: चंद्रगुप्त मौर्य ने भारी वीरता का प्रदर्शन किया और पहाड़ी राज्य के अलग-थलग शासकों का दमन किया। उन्होंने सीधे राज्य पर शासन नहीं किया, उन्होंने राज्य की देखभाल के लिए अपने कार्यवाहक नियुक्त किए। हालाँकि, यह महान अशोक के शासन के दौरान उनके राज्य का क्षेत्र हिमालयी क्षेत्र तक विस्तारित था। अशोक ने बौद्ध धर्म ग्रहण करने के बाद पहाड़ी राज्य में कई स्तूपों का निर्माण किया। कुल्लू घाटी में उनके द्वारा बनाया गया स्तूप बहुत प्रसिद्ध है।
  • हर्ष: गुप्त साम्राज्य के पतन और हर्षवर्धन के उदय के बीच का समय, राज्य फिर से राणा और ठाकुर जैसे छोटे प्रमुखों के हाथों में आ गया। ७वीं शताब्दी में हर्ष के उदय ने क्षुद्र सरदार को उसकी चरम वीरता के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। हालाँकि, कुछ शासकों ने उसके वर्चस्व को स्वीकार नहीं किया।

राजपूत राजाओं का शासन

647 ईस्वी में राजा हर्ष की मृत्यु के बाद राजपूत राजाओं ने पहाड़ी राज्य का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया। राजपूतों ने उनके बीच झगड़ा किया और अपना विनाश लाया, कुछ जो पीछे रह गए और हार गए, वे अपने समर्थकों के साथ पहाड़ियों की ओर चले गए। उन्होंने क्षेत्रों को आपस में बांट लिया और क्षेत्रों पर शासन करना शुरू कर दिया। इस अवधि के दौरान मुख्य क्षेत्र कुनिहार, सिरमौर, बुशहर, धामी, क्योंथल, नालागढ़, बिलासपुर, बघल, कुटलेहार, मंडी और सुकेत आदि थे।

मुग़ल काल

सिकंदर लोधी, तैमूर और मुहम्मद गजनवी जैसे उपयोगकर्ताओं द्वारा की गई तबाही के बाद मुगल शासकों ने पहाड़ी राज्य पर आक्रमण किया। हालाँकि, मुगल शासन का विघटन शुरू हो गया और इस अवधि का उपयोग पहाड़ी राजाओं द्वारा अपने वर्चस्व को प्रदर्शित करने के लिए किया गया। कांगड़ा क्षेत्र के कटोच राजाओं ने दुबले-पतले काल का भरपूर लाभ उठाया और महाराजा संसार चंद के शासन काल में कांगड़ा को स्वतंत्रता प्राप्त हुई। उन्होंने लगभग 50 वर्षों तक पहाड़ी क्षेत्र पर शासन किया। उन्हें सबसे अच्छा प्रशासक माना जाता था और उनके शासन के दौरान इस क्षेत्र में चौतरफा प्रगति हुई थी। उसने कांगड़ा किले पर कब्जा कर लिया और आसपास के राज्यों पर कब्जा करना शुरू कर दिया। बिलासपुर, मंडी, चंबा, गुलेर, सुकेत, ​​दातारपुर, सीवान और जसवंत जैसे कई क्षेत्रों पर उनका प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष नियंत्रण था।

राज्य को प्रभावित करने वाले दो मुख्य युद्ध: एंग्लो-सिख और एंग्लो-गोरखा युद्ध

वर्ष 1768 में, मार्शल जनजाति गोरखा नेपाल में नियंत्रण करने के लिए उठे। प्रभावी योजना और सैन्य शक्ति को मजबूत करने से उन्हें अपने क्षेत्र का विस्तार करने में मदद मिली। उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया और अंत में पहाड़ी राज्य में शिमला और सिरमौर क्षेत्रों पर विजय प्राप्त की। अमर सिंह थापा के प्रभावी प्रबंधन के तहत, गोरखाओं का लक्ष्य कांगड़ा को निशाना बनाना था। वे स्थानीय पहाड़ी प्रमुखों की मदद से 1806 में एक भीषण युद्ध के बाद कांगड़ा के शासक संसार चंद को हराने में भी सफल रहे। लेकिन गोरखा कांगड़ा किले को जीतने में सफल नहीं हुए। 1809 में किला महाराजा रणजीत सिंह के नियंत्रण में आ गया। इस हार ने गोरखाओं को दक्षिण की ओर ले जाने के लिए मजबूर किया। अंत में, गोरखा अंग्रेजों के साथ सीधी लड़ाई में आ गए, जिसे एंग्लो-गोरखा युद्ध कहा जाता है। गोरखा अंग्रेजों के खिलाफ युद्ध के मैदान में खड़े नहीं हो सके। गोरखाओं को सतलुज के पूर्व में पहाड़ी राज्य से खदेड़ दिया गया था। इस प्रकार इसने पहाड़ी राज्य में अंग्रेजों के वर्चस्व की शुरुआत की।

एंग्लो-गोरखा युद्ध के पूरा होने से ब्रिटिश क्षेत्र और पंजाब क्षेत्र की सीमा पर तनाव पैदा हो गया। सिख और अंग्रेज सीधा झगड़ा नहीं करना चाहते थे। हालाँकि, महाराजा रणजीत सिंह के निधन के बाद, मजबूत खालसा (सिख) सेना ने अंग्रेजों के खिलाफ कई लड़ाई लड़ी। वर्ष 1845 में, सिखों ने सतलुज नदी को पार करके पहाड़ी राज्य के ब्रिटिश क्षेत्रों में प्रवेश किया। सिख शासकों से दुश्मनी रखने वाले हिल्स के राजाओं ने सिखों से बदला लेने के लिए अंग्रेजों से हाथ मिलाया। कई शासकों ने गुप्त रूप से अंग्रेजों की सेवा की। हालांकि, एंग्लो-सिख युद्ध के पूरा होने के बाद, सिखों द्वारा खाली किए गए क्षेत्रों को क्षेत्र के मूल मालिकों को बहाल नहीं किया गया था। अंग्रेजों ने उन्हें अपने अधीन रखा।

भारतीय स्वतंत्रता का पहला युद्ध 1857

भारतीय स्वतंत्रता का पहला युद्ध जिसे लोकप्रिय रूप से 1857 का विद्रोह कहा जाता है, ब्रिटिश शासन के विरोध में राजनीतिक अशांति और शिकायत का परिणाम था जिसमें सामाजिक, धार्मिक और आर्थिक कारण शामिल थे। हालांकि, देश के अन्य हिस्सों के विपरीत पहाड़ी क्षेत्र में स्वतंत्रता आंदोलन बहुत सक्रिय नहीं था। जब स्वतंत्रता का पहला युद्ध छिड़ा तो उन्होंने अपनी निष्क्रियता प्रदर्शित की; उनके शासकों का रवैया भी ऐसा ही था। हालाँकि, बुशहर एकमात्र शासक था जो अपवाद था और ब्रिटिश प्रशासन के प्रति शत्रुतापूर्ण था। ऐसा माना जाता है कि कुछ लोगों ने विद्रोह के दौरान अंग्रेजों के लिए मदद की पेशकश भी की थी। अंग्रेजों की मदद करने वाले कुछ शासकों में बिलासपुर, चंबा, धामी और भागल के शासक शामिल थे।

पहाड़ी राज्य में १८५८ से १९१४ तक शासन

वर्ष १८५८ में रानी द्वारा एक घोषणा के बाद हिमाचल के पहाड़ी क्षेत्र को ब्रिटिश क्षेत्र में शामिल कर लिया गया था। हालांकि, ब्रिटिश शासन ने राज्य की प्रगति में बाधा नहीं डाली, मंडी, बिलासपुर और चंबा जैसे कुछ जिलों ने उत्कृष्ट प्रगति की। ब्रिटिश शासन। प्रथम विश्व युद्ध के दौरान पहाड़ी जिलों से ब्रिटिश शासन को उत्कृष्ट समर्थन मिला। राज्य के लोग भरोसेमंद बने रहे और उन्होंने जनशक्ति और माल दोनों के रूप में ब्रिटिश प्रशासन को हर संभव मदद दी। बिलासपुर, चंबा, नूरपुर, मंडी, कांगड़ा, सिबा और सुकेत जैसे कुछ स्थान ब्रिटिश शासन के लिए बहुत मददगार थे।

१९१४ से १९४७ तक भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में हिमाचल क्षेत्र की भागीदारी

हिमाचल क्षेत्र के लोगों ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रूप से भाग लिया। उन घटनाओं के उच्च बिंदु जिनमें पहाड़ी लोगों ने भाग लिया, नीचे सूचीबद्ध हैं:

  • हिमाचल क्षेत्र में प्रजा मंडल ने अंग्रेजों के सीधे नियंत्रण वाले जिलों में ब्रिटिश शासन के विरोधाभास में अपना पहला विद्रोह भड़काया।
  • राजनीतिक और सामाजिक सुधार लाने के लिए कई रियासतों में राजकुमारों के खिलाफ आंदोलन भी छिड़ गया। ये अंग्रेजों के खिलाफ नहीं थे। हालाँकि, उन्हें चल रहे स्वतंत्रता संग्राम का हिस्सा माना जा सकता है।
  • हिमाचल क्षेत्र में हुई महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक 1914-15 की मंडी योजना है। इसका आयोजन गदर पार्टी ने किया था। सुकेत और मंडी राज्यों में दिसंबर 1914 के साथ-साथ जनवरी 1915 में चरमपंथी नेताओं द्वारा कई सम्मेलन आयोजित किए गए जिन्होंने मंडी के प्रबंधक और वज़ीर के साथ-साथ सुकेत की हत्या करने का फैसला किया। उद्देश्य ब्रिटिश प्रशासन को परेशान करने के लिए ब्यास नदी पर पुल के नीचे सरकारी खजाने को लूटना था। हालांकि, नेता सफल नहीं हो सके और साजिश में शामिल लोगों को पकड़ लिया गया और उन्हें लंबी जेल की सजा सुनाई गई।
  • 1942 में जब भारत छोड़ो आंदोलन शुरू हुआ, तो इसकी चिंगारी पहाड़ी क्षेत्र में पझोता आंदोलन के साथ महसूस की गई जिसमें सिरमौर राज्य के एक हिस्से के लोगों ने ब्रिटिश शासन के खिलाफ विद्रोह किया।
  • हिमाचल प्रदेश के पहाड़ी क्षेत्रों से आने वाले कुछ प्रमुख स्वतंत्रता सेनानियों में दौलत राम, सदा राम चांडाल, सत्य देव, पूर्णानंद, प्रहरी गंडिउ बाबा खानसी राम, शिवनंद रामौल, पद्म देव, डॉ वाई.एस परमार थे।
  • पहाड़ी राज्य में स्वतंत्रता संग्राम के दौरान कांगड़ा को सक्रिय कांग्रेस केंद्र माना जाता था।
  • स्वतंत्रता के बाद की अवधि

स्वतंत्रता के बाद के हिमाचल प्रदेश का इतिहास कालानुक्रमिक क्रम में नीचे सूचीबद्ध है:

  1. १५ अप्रैल १९४८ - हिमाचल प्रदेश के प्रधान आयुक्त के प्रांत की स्थापना
  2. 26 जनवरी 1950 - भारत का संविधान अस्तित्व में आया, भारत गणराज्य बना और एच.पी. पार्ट सी बन जाता है।
  3. 1 जुलाई 1954 - विलय के बाद बिलासपुर हिमाचल प्रदेश का हिस्सा बना।
  4. 1 नवंबर 1956 - हिमाचल प्रदेश को केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया गया।
  5. 1 नवंबर 1966 - कांगड़ा सहित अधिकांश पहाड़ी क्षेत्रों का हिमाचल प्रदेश में विलय हो गया। हालाँकि, इसकी स्थिति एक केंद्र शासित प्रदेश की बनी हुई है।
  6. 18 दिसंबर 1970 - हिमाचल प्रदेश राज्य के गठन के लिए अधिनियम संसद द्वारा पारित किया गया।
  7. 25 जनवरी 1971 - हिमाचल प्रदेश भारतीय संघ का 18वां राज्य बना।

उस समय से लेकर अब तक हिमाचल प्रदेश काफी आगे बढ़ चुका है। इसने निश्चित रूप से कई पूर्ण विकसित सरकारें देखी हैं। १९४७ में भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद, १९४८ में हिमाचल प्रदेश को भारतीय संघ में एक मुख्य आयुक्त प्रांत के रूप में गठित किया गया था। प्रांत का गठन शिमला के आसपास स्थित कई पहाड़ी जिलों और पंजाब राज्य के कुछ पहाड़ी क्षेत्रों द्वारा किया गया था। फिर इसे 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान के गठन और 26 जनवरी 1950 को एक संप्रभु, समाजवादी गणराज्य के रूप में उभरने के साथ एक भाग सी राज्य में परिवर्तित कर दिया गया। इस क्षेत्र को 1 नवंबर 1956 को एक केंद्र शासित प्रदेश में बदल दिया गया। इसके बाद 18 दिसंबर 1970 को भारतीय संघ में एक राज्य के रूप में हिमाचल प्रदेश के गठन के लिए एक अधिनियम को दरकिनार किया गया। अंत में 25 जनवरी 1971 को, यह शिमला के साथ अपनी राजधानी के साथ भारतीय संघ में 18 वें राज्य के रूप में उभरा।


Bookmark WWW.IBTSINDIA.COM  and www.aimsuccess.in on a Web page for quick updates about syllabus/ exam pattern, admit card, answer key, paper solution, merit list, and final results. Free Study Material & Study Notes for HPAS/ HP Allied & HPPSC EXAMS, you can join us on Telegram Channel or Download our App for Online Coaching

Hope you guys have found Himachal Pradesh Free GS Notes from this web page. Readers can share their queries or doubt with us through the comment box placed below. Our team will answer every query as soon as they can.

Join IBTS for Online HPAS /HAS Coaching 

 Click Here to Join Our Official Telegram Group

Stay Connected & Join our Telegram Group for free study material, free tests daily quiz & Discussions related to Exams & latest jobs, News, Admit Card, Answer keys, Results, Employment News.
===========================
DOWNLOAD IBTS ANDROID APPLICATION: https://bit.ly/3qeh6vF
===========================
- Telegram: https://t.me/IBTSINDIA
- Telegram Group: https://t.me/hpexams365
- SUBSCRIBE IBTS INDIA YOUTUBE CHANNEL: https://bit.ly/3gSwxXq

AIMSUCCESS.IN

Content Partner: Ranked No.1 Institute for HPAS/ HPPSC & HP Allied Services Exams in Chandigarh - Call:-9316488821

Share To:

IBTSINDIA.COM

Post A Comment:

0 comments so far,add yours