Hindi Quiz (परिच्छेद ) for HPAS / HPPSC Allied Services Exams 2018: 11 September

Hindi Quiz (हिंदी भाषा) for HPAS / HPPSC Allied Services Exams 2018: 01 September

Hindi Quiz (परिच्छेद ) for HPAS / HPPSC Allied Services Exams 2018: 11 September

निर्देश (Q. 1-10)  नीचे दिए गए परिच्छेद में कुछ रिक्त स्थान छोड़ दिए गए हैं तथा उन्हें प्रश्न संख्या से दर्शाया गया है। ये संख्याएं परिच्छेद के नीचे मुद्रित हैं, और प्रत्येक के सामने 1, 2, 3, 4 और 5 विकल्प दिए गए हैं। इन पांचों में से कोई एक इस रिक्त स्थान को पूरा कर देता है। आपो वह विकल्प ज्ञात करना है, और उसका क्रमांक ही उत्तर के रूप में दर्शाना है। आपको दिए गए विकल्पों में से सबसे उपयुक्त का चयन करना है।
महत्त्वाकांक्षा, असुरक्षा की भावना और शासन के अराजनीतिकरण का सिद्वांत इंदिरा गांधी को अपने पिता जवाहरलाल नेहरू से (1)में मिला था। नेहरू ने 1946 में अंतरिम प्रधानमंत्राी की (2) लेने से पहले ही उन दिनों के विश्वासपात्रा राममनोहर लोहिया को स्पष्ट जता दिया था कि वे ‘भारत के नव निर्माण में (3) और भ्रष्ट कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बजाय अंग्रेजी हुकूमत द्वारा विकसित (4) की मदद लेना बेहतर समझते हैं।’

राजाजी नेहरू की खास पसंद थे। गणतंत्रा की घोषणा पर गवर्नर जनरल का पद समाप्त हुआ। तब वे राष्ट्रपति राजाजी को ही नियुक्त करना चाहते थे। कारण ऊपर स्पष्ट कर चुके हैं। पटेल जीवित थे, वे राजाजी के विरुद्ध नहीं थे, लेकिन नेहरु (5) को दुबारा राष्ट्राध्यक्ष बनाने को तैयार नहीं थे। इसी (6) में डाॅ.राजेंद्र प्रसाद को मौका मिल गया। वे तीन बार 1950, 1952,  1957 में पदासीन हुए। चैथी बार भी इच्छुक थे। उन्हें पदमुक्त होने से बड़ा डर लगता था। नेहरु ने 1962 में उनहें हटा ही दिया और सर्वेपल्ली राधाकृष्णन को अंततः स्थापित कर दिया। वे शिक्षाविद थे और मूलतः अराजनीतिक व्यक्ति थे, इसीलिए नेहरू को अत्यंत प्रिय थे। राजनीति के छात्रा अगर इस तथ्य को दृष्टि से (7) कर देंगे कि नेहरू का प्रथम (8) लोकतंत्रा के पूर्ण अराजनीतिकरण का था तो वे कभी भी वर्तमान दुर्दशा का अनुसंधान नहीं कर सकेंगे। नेहरू के बाद इंदिरा गाधी ने उसी सिलसिले को आगे बढ़ाया और (9) जैल सिंह तक पहंुचा दी। स्वतंत्रा भारत के नेतृत्व को 1947 से अब तक सोलह बार राष्ट्राध्यक्ष चुनने का मौका मिल चुका है। राष्ट्रपति से की जाने वाल अपेक्षाओं या उसकी (10) को लेकर अब देश में खुल कर विचार-मंथन होना चाहिए। सर्वोच्च पद का अराजनीतिकरण रोकने का प्रयास हो। यदि राष्ट्रपति के पद का अराजनीतिकरण जारी रहेगा तो प्रधानमंत्राी का पद भी वर्तमान की तरह स्थायी रूप से अराजनीतिक बन जाएगा। लोकतंत्रा के लिए शासन का राजनीतिकरण अनिवार्य शर्त है।

1.  1) वसियत        2) विरासत       3) उपहार      4) लिखित     5) अनुभव
2. 1)  मृत्यु             2)सहमति      3) शपथ     4) आज्ञा    5) खबर
3. 1) बदगोई         2) निकृष्ट      3) धृष्ट     4) निर्मम    5) निष्ठुर
4. 1) हाकिमशाही       2) नौकरशाही      3) राजशाही     4) तानाशाही    5) संस्कार
5. 1) ईमानदार           2)कामचोर            3) बेजुबान     4) अनुभवी    5) अनुभवहीन
6. 1) मौके          2) खींचतान      3) सदमे        4) घोषणा      5) शगल
7. 1) विकृत       2) प्रक्षिप्त          3) ओझल     4) तिरोहित    5) अन्तद्र्धान
8. 1) सपना       2) मन्तव्य           3) प्रयास     4) भटकाव    5) संदेश
9. 1) कारवां      2)घोषणा            3) सिद्धांत    4) नौबत    5) संकट
10. 1) भूमिका   2) मुखबन्ध      3) प्राक्कथन     4) पूर्व पीठिका     5) बेबाकी
Answers:
  1. 2
  2. 3
  3. 2
  4. 2
  5. 5
  6. 2
  7. 3
  8. 3
  9. 4
  10. 1
Share To:

IBTSINDIA.COM

Post A Comment:

0 comments so far,add yours